श्रीलाल शुक्ल जी एक मुलाकात

हम पिछ्ले माह जब लखनऊ गये थे तो एक बार फिर श्रीलाल शुक्ल जी से मिले।

हम सबेरे-सबेरे कानपुर से निकले। सपरिवार गाते-बजाते हुये दोपहर होने के नजदीक लखनऊ पहुंचे। ईद की छुट्टी होने के कारण सड़कें किसी बुद्धिजीवी के दिमाग सी खाली थीं। कार सड़क पर सरपट दौड़ रही थी जैसे बुद्धिजीवी के दिमाग में विचार दौड़ते हैं।

बहरहाल हमारा काम शाम होते-होते तमाम हो गया और हमें वापस कानपुर मार्च के लिये आदेश दिया गया।


श्रीलाल शुक्ल

हम पांच मिनट में आने को कहकर घर, सड़क और फिर मोहल्ला पारकर के पांच मिनट में श्रीलाल जी के पास थे। वे अपने पोते के साथ टेलीविजन पर क्रिकेट मैच देख रहे थे। बच्चा होमवर्क भी करता जा रहा था साथ में। हमारे जाने से उस बेचारे के आनंद में व्यवधान हुआ क्योंकि दादा ने टीवी की आवाज कम कर दी।

श्रीलाल जी से तमाम बाते हुयीं। उनका उपन्यास रागदरबारी जब प्रकाशित हुआ तब उनकी उमर लगभग ४३ वर्ष थी। इसे लिखने में उनको करीब पांच वर्ष लगे। उत्तर प्रदेश शासन में अधिकारी होने के नाते उनको यह ख्याल आया कि इसके प्रकाशन की अनुमति भी ले ली जाये। हालांकि इसके पहले भी उनकी किताबें छप चुकी थीं और उनके लिये कोई अनुमति नहीं ली गई थी। लेकिन रागदरबारी में तमाम जगह शासन व्यवस्था पर व्यंग्य था इसलिये एहतियातन यह उचित समझा गया कि शासन से अनुमति ले ली जाये। अनुमति मिलने में काफ़ी समय लग गया, एकाध साल के लगभग। इसबीच श्रीलाल शुक्ल जी ने नौकरी छोड़ने का मन बना लिया था। अज्ञेयजी की जगह दिनमान सापताहिक में संपादक की बात भी तय हो गयी थी। यह सब होने के बात श्रीलालजी ने उत्तर प्रदेश शासन को एक विनम्र-व्यंग्यात्मक पत्र लिखा जिसमें इस बात का जिक्र था कि उनकी किताब पर न उनको अनुमति मिली न ही मना किया गया। बहरहाल, इसे पत्र का ही प्रभाव कहें कि तुरंत रागदरबारी के प्रकाशन की अनुमति मिल गयी। और आज यह राजकमल प्रकाशन से छपने वाली सबसे ज्यादा बिकने वाली किताबों में से है।

हमारे यह पूछने पर कि रागदरबारी के लिये मसाला कहां से, कैसे मिला श्रीलाल जी ने बताया कि जो देखा था वही मसाला बना। अलग-अलग समय के अनुभवों को इकट्ठा करके इसे लिखा गया। इसको प्रकाशन के पहले पांच बार संवारा-सुधारा गया। इसे लिखने के समय श्रीलालजी की नियुक्ति बुंदेलखंड के पिछ्ड़े इलाकों में रही। कुछ हिस्से तो वीराने में जीप खड़ी करके लिखे गये।

हमने रागदरबारी को नेट पर प्रकाशित करने की अनुमति चाही। श्रीलाल जी ने कहा कि एक लेखक की हैसियत से तो उनको कोई एतराज नहीं है लेकिन प्रकाशक से पूछना भी ठीक रहेगा। प्रकाशक से पूछने पर उन्होंने बताया कि उनका कहना कि कुछ अंश छाप सकते हैं। वैसे राग दरबारी का कापीराइट श्रीलाल शुक्ल की के नाम है तो मेरे ख्याल में उनकी सहमति पर्याप्त होनी चाहिये। मजे की बात है कि रागदरबारी के पाकिस्तान और राजस्थान( जहां यह कोर्स की किताब है) लोग इसे धड़ल्ले से इसे छाप रहे हैं और बेच रहे हैं। बहरहाल हमने यह तय किया है कि रागदरबारी को नेट पर लाया जाना चाहिये। इसके लिये ब्लाग बना लिया गया और आगे के लिये स्वयंसेवकों का आवाहन है जिनके पास रागदरबारी किताब है और जो रागदरबारी-टाइपिंग यज्ञ में अपना योगदान दे सकें।

बात किताबों से कमाई की तरफ भी मुड़ी। श्रीलाल जी के मुताबिक केवल लेखन से जीवन बिताना हिंदी के लेखक के मुश्किल है। उन्होंने बताया कि निर्मल वर्मा जैसे लेखक, जिनकी कि तमाम किताबें छपी हैं, की भी रायल्टी अधिक से अधिक दो लाख रुपये से भी कम ही है। यह भी तब जब गत वर्ष उनके निधन के कारण उनकी किताबों की मांग बढ़ी है।

हमने पूछा तो फिर परसाईजी जैसे लोगों की जिंदगी कैसे गुजरती होगी जिन्होंने लेखन के लिये नौकरी छोड़ दी! श्रीलाल जी ने बताया कि उन्होंने अपनी कमाई के अनुसार अपनी जरूरतें कम रखीं। परिवार नहीं था जब नौकरी छोड़ी। शादी की नहीं। बाद में बहन के परिवार की जिम्मेदारी निभानी पड़ी। लेकिन अपनी आमदनी के लिहाज से अपनी जरूरतों को सीमित किया इसलिये कर सके होंगे गुजारा। श्रीलाल जी ने परसाई जी के साहित्य में योगदान पर भी कुछ चर्चा की तथा बताया कि मध्य प्रदेश में हिंदी साहित्य के प्रचार का बहुत कुछ श्रेय परसाई जी को जाता है।

हमने हिंदी लेखक की विपन्नता की स्थिति की बाबत बात करनी चाही तो शुकुलजी का कहना था- हम हिंदी वाले आम तौर पर जाहिल मनोवृत्ति के लोग हैं। हिंदी पढ़ने -लिखने वालों की अबादी तीस-चालीस करोड़ है। अगर एक प्रतिशत लोग भी महीने में एक किताब खरीदें तो साल में पचास लाख किताबें बिकें लेकिन ऐसा नहीं होता। जब किताबें बिकेगीं नहीं तो छ्पेगीं भी नहीं और हिंदी लेखक ऐसे ही विपन्न रहेगा। केवल लेखन से जीविका इसीलिये हिंदी में बहुत मुश्किल बात है।

हमारे यह पूछने पर कि आजकल क्या लिख रहे हैं श्रीलाल जी ने बताया कि स्वास्थ्य के कारणों से पिछले कुछ दिनों से लिखना नहीं हो पा रहा है। वैसे इंडिया टु दे तथा आउटलुक और अन्य पत्रिकाऒं से नियमिते लेखन का प्रस्ताव है लेकिन लिखना हो नहीं पा रहा। मैंने कहा कि आप बोलकर लिखवाया करें जैसे नागरजी लिखवाया करते थे। इस पर श्रीलाल जी ने कहा कि बोलकर लिखवाने की उनकी आदत नहीं है। अपने लिखे को ही दो तीन बार सुधारना पड़ता है तो दूसरे को बोलकर लिखवाना तो और मुश्किल है। नागरजी के बोलकर लिखवाने का ही जिक्र करते हुये उन्होंने अपना मत बताया कि अगर नागरजी अपना उपन्यास बूंद और समुद्र को कुछ संपादित करके लिखते तो तो शायद कुछ पतला होकर यह और श्रेष्ठ उपन्यास बनता।

अपने लिखने के बारे में बात करते हुये उन्होंने कहा -”एक समय ऐसा आता है कि लेखक अपने लिखे पर ही सवाल उठाता है कि हमने जो लिखा वह कितना सार्थक है! उसकी कितनी सामाजिक उपादेयता है! मैं अब ८१ वर्ष की उम्र में शायद उसी दौर से गुजर रहा हूं।”

अपने लेखन से कितने संतुष्ट हैं और अपनी रचनाऒ को दुनिया के महान साहित्यकारों की रचनाऒं से तुलना करने पर कैसा महसूस करते हैं यह सवाल जब मैंने पूछा तो श्रीलालजी ने कहा- “अब मुझमें इतनी अकल तो है ही कि मैं अपने लिखे की तुलना किसी बहुत आम लेखक की आम रचनाओं से करके खुशफहमी पालने से अपने को बचा सकूं लेकिन जब कभी ‘वर्ल्ड क्लासिक्स’ से तुलना करता हूं तो लगता है कि मैंने कुछ नहीं लिखा उनके सामने।”

मैं समीक्षक नहीं हूं लेकिन फिर भी मुझे लगता है कि श्रीलाल शुक्ल जी का रागदरबारी उपन्यास विश्व के अनेक कालजयी उपन्यासों के स्तर का उपन्यास है।

इस बीच श्रीलालजी की रैक की किताबें पलटते हुये मैं प्रख्यात पत्रकार स्व. अखिलेश मिश्र की किताब पत्रकारिता: मिशन से मीडिया तकउलटने-पलटने लगा था। पिछ्ले ही हफ्ते हिंदी दैनिक हिंदुस्तान में छपी इसकी समीक्षा को पढ़कर इसे पढ़ने की सहज इच्छा थी। मेरी उत्सुकता देखकर श्रीलाल जी ने वह किताब हमें दे दी कि मैं उसे ले जाऊं। हमने उसे प्रसाद की तरह ग्रहण कर लिया। अब जब वह किताब पढ़ रहा था तो लगा कि यह हर पत्रकार के लिये आवश्यक किताब है।

बहरहाल तमाम बाते होती रहीं। साहित्यिक, सामाजिक, व्यक्तिगत। ढेर सारा समय कैसे सरक गया पता ही नहीं चला। पांच मिनट के लिये कहकर मैं घंटे भर से ऊपर यहां गपियाते हुये बिता चुका था। बातों का क्रम भंग कर दिया मुये मोबाइल ने। घरवाले बुलाहट कर रहे थे कानपुर वापस लौटने के लिये।

हम वापस लौट आये। अभी जब मैं लखनऊ में श्रीलाल शुक्ल के साथ सहज रूप से बिताये समय को याद कर रहा हूं तो लगता है कि वे ऐसे व्यक्ति साहित्यकार हैं जिनसे बात करते समय यह अहसास ही नहीं होता कि हम किसी बहुत खास व्यक्ति से, महान लेखक से बात कर रहे हैं। यही शायद उनके व्यक्तित्व की सबसे बड़ी खासियत है। यही उनकी महानता है।

25 responses to “श्रीलाल शुक्ल जी एक मुलाकात”

  1. समीर लाल

    वाह, बहुत खुब रही आपकी मुलाकात और आपकी खास शैली में उसका विवरण. पढ़कर अच्छा लगा.

  2. Anoop Bhargava

    शुक्ल जी नें ठीक कहा है कि जब तक हम किताब खरीदनें की आदत नहीं बनायेंगे तब तक लेखक विपन्न ही रहेंगे । अब देश की गरीबी को इस के लिये दोषी नहीं ठहराया जा सकता क्यों कि इसी देश में ‘मल्टीप्ले़क्स सिनेमा’ में २०० रुपये दे कर फ़िल्म देखनें वाले भी बहुत हैं ।
    जब तक लेखन एक पूर्ण व्यवसाय नहीं बन जाता तब तक ‘राग दरबारी’ जैसी ‘क्लासिक’ महज अपवाद ही हो सकती हैं ।
    राग दरबारी को आप का इंटरनेट पर लानें का प्रयास सराहनीय है लेकिन मेरा निजी विचार है कि पूरा उपन्यास देने के बजाय सिर्फ़ उस के कुछ अंश दें जिस से पाठकों की जिज्ञासा बढे और वह उपन्यास खरीद कर पढें । उपन्यास ‘पौकेटबुक’ में सरलता से उपलब्ध है । वैसे भी पूरा उपन्यास ‘इंटरनेट’ पर पढनें की क्षमता और रुचि न जानें कितनें लोगों में हो । आशा है आप सुझाव को अन्यथा न लेंगें , पूरे उपन्यास को लिखनें में किये गये परिश्रम का कहीं और बेहतर प्रयोग हो सकता है ।

    वैसे अगर आप लिखना चाहें ही तो २० पन्नें मेरे नाम से जोड़ लें :-)

  3. प्रत्यक्षा

    अनूप जी की बात से मैं भी सहमत हूँ । पूरा उपन्यास नेट पर पढना मुश्किल होगा । हाथ में किताब हो तो पढने का सुख अवर्णनीय होता है । बस इतना भर ही नेट पर डालें जिससे पाठकों को पूरा पढने का उकसावा मिले ।

  4. जगदीश भाटिया

    २० पन्ने की आहुति मेरी और से भी इस यज्ञ में:)

  5. संजय बेंगाणी

    राग दरबारी के बारे में सुना था, आज लेखक से परिचीत होने पर इसे पढ़ने कि इच्छा और प्रबल हो गई है.
    आपने इस मुलाकात का विवरण बहुत अच्छी तरह से रखा है.
    यह पढ़ कर एक फायदा मुझे नीजि तौर पर यह हुआ की अब तक मैं वर्तनियों की भूलो से डर कर लिखना टालता रहा था, पर जब इतने बड़े लेखको को ही अपने लिखे को तीन-चार बार सुधारना पड़ता है, तब हमे भी ज्यादा डरने की कहाँ आवश्यक्ता है.

  6. सागर चन्द नाहर

    बहुत सुना था इस उपन्यास के बारे में, उत्सुकता भी थी। आशा है जल्द ही नेट पर पढ़ने को मिलेगा।
    मैं इसे टाईप करने के लिए तैयार हूँ पर अफ़सोस मेरे पास यह उपन्यास नहीं है।

  7. आशीष

    एक स्वंयसेवक हाजीर है , आप पृष्ठ संख्या बता दिजीये , हम टाईप कर के भेज दूंगा।

  8. जीतू

    हम भी लिखने के लिए तैयार है, लेकिन असल परेशानी ये है कि किताब यहाँ पर नही है हमारे पास, उसका कोई इन्तज़ाम हो सके तो बताया जाए। इस विषय पर अलग से इमेल करके बात करते है।

  9. अनुराग श्रीवास्तव

    अनूप (शुक्ल) जी,

    अनूप (भार्गव) जी ने अच्छी सलाह दी है, आंशिक रूप से पढ़ने के बाद जिज्ञासा वश लोग किताब तो खरीदेंगे!

  10. bhuvnesh

    कैसा सँयोग है कि मैँ भी आज ही इस किताब तो खरीदने के बारे मेँ सोच् रहा था और आज ही आपका ये पोस्ट पढा
    टाइपिँग मेँ भी कुछ् सहयोग करूँगा
    आपका विवरण पढके ये लगता है जैसे खुद ही श्रीलाल जी से मुलाकात हो गई|

  11. जगदीश भाटिया

    यहां पर उपन्यास की स्कैन की हुई प्रति मिल जायेगी अगर किसी को चाहिये हो तो। स्क्रीन पर सामने रख कर टाईप करना भी आसान रहेगा।
    http://www.new.dli.ernet.in/

  12. anunad

    रागदरबारी को इन्टरनेट पर लाने का विचार बहुत ही बढिया है। इससे हिन्दी का बड़ा उपकार होगा।

    श्रीलाल जी से पूछे गये प्रश्न और उनके उत्तर बहुत सार्थक लगे तथा बहुत सारी नयी जानकारी मिली।

    मुझे दु:ख है कि मेरे पास यह पुस्तक न होने के कारण मैं इस यज्ञ मे आहुति नहीं दे पाउँगा, अन्यथा दसेक पृष्ट तो छाप सकता था।

  13. अनुराग

    एक बढ़िया साक्षात्कार। आशा है एसे और साक्षात्कार पढ़ने को मिलेंगे भविष्य में।

  14. जोगलिखी » Blog Archive » ओन-लाइन खज़ाना

    [...] यह ऑनलाइन पुस्तकालय है, डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया. इस खजाने में खोज लिजीये अपनी पसन्द की पुस्तक और निशुल्क पढ़ीये. पहले मुझे इसके बारे में कोई जानकारी नहीं थी. शुक्लाजी ने श्रीलालजी से हुई मुलाकत के बारे में लिखा तथा रागदरबारी को नेट पर उपलब्ध करवाने का प्रयास करने की इच्छा व्यक्त की, तब जगदीशजी द्वारा की कई टिप्पणी से इस साइट का पता चला. हम भी रागदरबारी की खोज में इस संजाल पर जा पहूँचे, पर रागदरबारी यहाँ नहीं मिला. कोई बात नहीं बहुत सारी बल्की ठेर सारी किताबे यहाँ मौजुद हैं. मजा आ गया अब पढ़ने के लिए खुब मसाला तैयार मिल गया है. हमने इसे छानना शुरू किया. इन दिनो खुशी को पृथ्वीराज पर कोई पुस्तक पढ़ने की इच्छा हो रही थी, तो इसी की खोज शुरू की. इस विषय पर तीन पुस्तके मिली. इनमें एक 1920 में प्रकाशित हुई 154 पन्नो की किताब थी. उसे ही पढ़ने तथा खुशी के लिए डाउनलोड करने का विचार किया. पर मामला इतना आसान भी न था. पढ़ना चाहा तो निर्देश मिला पहले एक एक्टिव-एक्स कंट्रोल डाउनलोड करो. वह भी किया फिर पढ़ने की कोशीष की तो स्केन किये पन्ने पढ़ना कतई मजेदार नहीं था. हमने पूरी किताब जो की टीफ फोर्मेट में है, डाउनलोड कर ली. अब उसे प्रिंट कर पढ़ेंगे. आप भी यहाँ उस किताब को खोज सकते है, जिसकी तलाश आपको थी पर अब तक मिली नहीं. [...]

  15. रवि

    रागदरबारी को इंटरनेट पर लाने का आपका प्रयास सराहनीय है.

    आपने बताया है कि आज भी रागदरबारी बेस्टसेलर की सूची में है तो निश्चित रूप से इसकी सॉफ़्टवेयर प्रतिलिपि प्रकाशक के पास होगी, और डीटीपी फ़ॉर्मेट में कृतिदेव फ़ॉन्ट में होगी. अगर इसकी एक प्रति प्रकाशक से मिल जाती है तो फिर से टाइप करने की समस्या दूर हो सकती है. इसे परिवर्तन जैसे सॉफ़्टवेयरों की मदद से यूनिकोड में आसानी से रूपांतरित किया जा सकता है. कुछ चर्चा कर देखें:

  16. anunad

    मेरा यह भी विनम्र सुझाव है कि रागदरबारी को हिन्दी विकिसोर्स (http://wikisource.org/wiki/%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%96%E0%A5%8D%E0%A4%AF_%E0%A4%AA%E0%A5%83%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%A0:%E0%A4%B9%E0%A4%BF%E0%A4%A8%E0%A5%8D%E0%A4%A6%E0%A5%80)पर लादा जाय, जो इसी तरह के कामों के लिये बनाया गया है।

  17. SHUAIB

    शुक्ल जी से मुलाकात और उनसे हमारी मुलाकात करवाने के लिए अनूपजी का धन्यवाद।

  18. विजय वडनेरे

    जनरल टाईप की टिप्पणी:
    आपकी उनसे मुलाकात तो ऐसी रही कि लगा हमारी ही उनसे मुलाकात हो गई।

    कुछ सीरियस टिप्पणी:
    वाकई, जब तक समर्थ लोग खरीदेंगे नहीं, तब तक हिन्दी साहित्य में इस तरह की शख्सियत यदा कदा ही दिखेगी।

    अपनी वाली पर: :)
    सहयोग तो मैं भी पुरा करना चाहुँगा। गूगल पर ढुँढ रहा हूँ कहीं से देवनागरी यूनिकोड में तैयार सामग्री मिल जाये तो १००-५० पन्ने मैं भी कॉपी-पेस्ट कर के भेज सकता हूँ.

  19. फ़ुरसतिया » राग दरबारी इंटरनेट पर

    [...] विजय वडनेरे on श्रीलाल शुक्ल जी एक मुलाकातSHUAIB on श्रीलाल शुक्ल जी एक मुलाकातanunad on श्रीलाल शुक्ल जी एक मुलाकातरवि on श्रीलाल शुक्ल जी एक मुलाकातजोगलिखी » Blog Archive » ओन-लाइन खज़ाना on श्रीलाल शुक्ल जी एक मुलाकात [...]

  20. हिंदी ब्लॉगर

    बहुत दिनों बाद दोबारा इंटरनेट के क़रीब आया हूँ. आते ही मोती पा गया इस साक्षात्कार के रूप में. बहुत-बहुत धन्यवाद!

  21. फ़ुरसतिया-पुराने लेख

    [...] की कहानी- हनीमून 2..श्रीलाल शुक्ल जी एक मुलाकात 3..राग दरबारी इंटरनेट पर 4..नगर निगम चौकस [...]

  22. pankaj upadhyay

    रागदरबारी कभी आधा अधूरा रह गया था.. बहुत जल्द ही फ़िर से शुरु करने वाले है.. श्रीलाल जी के साथ आपको देखकर बहुत अच्छा लगा.. :)

    और यह भी डिसाईडेड ही है कि हमे भी उनसे मिलना है :) बस थोडा प्रिपेयर हो जाये अपने साजो सामान के साथ..

  23. Abhishek

    राग दरबारी अभी भी पड़ी हुई है मेरे पास. अभी तक पढ़ नहीं पाया. आपके ही किसी पोस्ट के बाद खरीदने की सूची में डाला था. पिछले साल खरीद लाया… जल्दी ही पढता हूँ.
    श्रीलाल शुक्लजी को श्रद्धांजलि.
    Abhishek की हालिया प्रविष्टी..टाटा की भोलभो (पटना ७)

  24. anita

    श्रीलाल शुक्लजी को श्रद्धांजलि.

  25. संतोष त्रिवेदी

    बहुत दिनों पहले राग दरबारी के जादू से अभिभूत हो चुके हैं.अभी उनका यकायक जाना हिंदी साहित्य को गहरी चोट दे गया है .

    उनकी स्मृति को पुनः नमन !
    संतोष त्रिवेदी की हालिया प्रविष्टी..साहित्य का लाल नहीं रहा !

Leave a Reply


nine − 8 =

CommentLuv badge
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Plugin from the creators ofBrindes :: More at PlulzWordpress Plugins